Sorry, you need to enable JavaScript to visit this website.
Search
Not a member? Register here
Share this Article
X
 Pregnancy Myths and Realities

गर्भावस्था संबंधी मिथक और वास्तविकताएं

(0 reviews)

आपके और आपके बच्चे के प्रति आपके परिवार और दोस्तों की बढ़ती प्रशंसा और लगाव, गर्भावस्था के बारे में अनेक सुखद चीजों में से एक है। लगभग सभी लोग जिन्हें आप जानते हैं, वे आपको यह बताने के लिए तैयार रहेंगे कि आपको क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए।

Thursday, November 23rd, 2017

हालांकि, इनमें से कई सच हो सकते हैं, और कई सिर्फ मिथक होते हैं।

मॉर्निंग सिकनेस का मतलब है कि शायद मेरे बच्चे को पर्याप्त पोषण नहीं मिल रहा है।

सच्चाई यह है कि मॉर्निंग सिकनेस गर्भावस्था के सबसे आम लक्षणों में से एक है जो आपके शरीर में हार्मोनल परिवर्तनों के कारण उत्पन्न होती है। यह एक ऐसी स्थिति होती है जिसमेंभोजन को देखना, उसकी महक , या भोजन के बारे में सोचना भी आपको परेशान कर सकता है।

गर्भावस्था के पहले कुछ महीनों में वजन बढ़ने की गति कम होती है। वास्तव में, कुछ महिलाओं में गर्भावस्था के प्रारंभिक दौर में वजन थोड़ा कम भी हो सकता है। जब तक आप निर्जलीकरण, गंभीर रूप से वजन घटने या गंभीर मॉर्निंग सिकनेस जैसे संकेतों का अनुभव न करें तब तक डरने या चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है।

यदि गर्भधारण से पहले आपका स्वास्थ्य अच्छा था, तो आपका शिशु अपनी सभी पौष्टिक जरूरतों को जब तक संभव हो सकेगा आपके शरीर से पूर्ण करेगा, इसलिए  आपको पहले त्रैमास के अंत तक अपने बच्चे के स्वास्थ्य के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। अपने डॉक्टर की सलाह का पालन करती रहें और सलाह के अनुसार पूरक खुराक लें।

पेट पर हलका सा भी स्पर्श बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है।

आपका बच्चा आपके गर्भाशय में अच्छी तरह से सुरक्षित होता है और यह मामूली ठोकरों, धक्कों और गिरने से, अमानोस्टिक तरल पदार्थ, जिसमें वह तैरता है द्वारा गद्देदार सुरक्षा प्राप्त करता है। इसके अलावा पेट की परतें गर्भ को किसी भी छोटी-मोटी दुर्घटनाओं से बचाती हैं।

हालांकि, अगर आपको ऐंठन या योनि रक्तस्राव का अनुभव होता है, तो तुरंत अपने चिकित्सक से संपर्क करें।

भारी वजन उठाना प्रसव को प्रेरित करेगा।

यह आंशिक रूप से सच है। भारी वजन उठाने से पीठ दर्द बढ़ सकता है और रीढ़ की हड्डी में चोट लग सकती है। हालांकि, अगर इससे आपको तनाव नहीं होता है और यदि आप इसे सही तरीके से करती हैं, तो कुछ मात्रा में वजन उठाना ठीक होता है। उदाहरण के लिए, अगर आप किराने के सामान की थैली और छोटे बच्चों को सही तरीके से उठाते हैं, तो यह ठीक है।

अब सही तकनीक क्या है? किसी भी चीज को उठाने के लिए अपने घुटनों को मोड़ें और शरीर के करीब रखते हुए उठाएँ। अपनी कमर को न मोड़ें क्योंकि यह आपकी पीठ को वजन से प्रभावित होने से बचाएगा। इसके अलावा, अपने शरीर के एक ओर भार डालने के बजाय भार को हमेशा दोनों हाथों से उठाएँ।

कसरत करने से मेरे बच्चे को नुकसान होगा

कोई भी व्यायाम कार्यक्रम अपने चिकित्सक से परामर्श करने के बाद ही शुरू किया जाना चाहिए। फिट होने से आपकी सहनशक्ति बढ़ जाती है और यह आपको प्रसव की कठिन प्रक्रिया के लिए तैयार करता है। आप तब तक व्यायाम कर सकती हैं जब तक कि इससे आप थकने नहीं लगती हैं या आपका शरीर अधिक गर्म नहीं हो जाता या आप हांफने नहीं लगती हैं। वास्तव में जो महिलाएं कोई व्यायाम नहीं करती हैं, उन्हें अक्सर उनकी गर्भावस्था के दौरान कुछ व्यायाम करना शुरू करने की सलाह दी जाती है। भारी व्यायाम के लिए अनअभ्यस्त लोगों के लिए तेज गति से चलना सबसे सुरक्षित व्यायाम है। गर्भवती महिलाएं आसानी से तैराकी जारी रख सकती हैं। व्यायाम प्रशिक्षित पेशेवरों की निगरानी में और अपने डॉक्टर के परामर्श से किया जाना चाहिए। साँस के व्यायाम और ध्यान की भी सिफारिश की जाती है क्योंकि ये तनाव से आराम दिलाने में बहुत अच्छे होते हैं। आप प्रमाणित प्रशिक्षकों की निगरानी में योग का अभ्यास भी कर सकती हैं। बस इस तथ्य को ध्यान में रखें कि यदि आप व्यायाम कर रही हैं तो आपको अपने आप को अच्छी तरह हाइड्रेटेड रखना चाहिए।

हवाई यात्रा गर्भवती महिलाओं के लिए वास्तव में सुरक्षित नहीं है।

यह आंशिक रूप से सच है। अगर आपकी प्रसव की तारीख छह हफ्तों से अधिक दूर है तो एक समय में एक बार हवाई यात्रा पूरी तरह से सुरक्षित है। हवाई अड्डे की सुरक्षा व्यवस्था से होकर गुजरना भी आपके बच्चे को प्रभावित नहीं करेगा। यदि आपकी उड़ान लंबी है, तो बस थोड़ा सा घूमें और अपने पैरों को फैलाएं।

हालांकि, लगातार उड़ान भरने वालों को थोड़ा अधिक सतर्क होना चाहिए।

सेल फोन, माइक्रोवेव और यहां तक कि कंप्यूटर भी हानिकारक हैं।

कंप्यूटर पूरी तरह से सुरक्षित साबित हुए हैं। माइक्रोवेव के लिए, केवल यदि रिसाव होते हैं तो ही आपके विकिरण से प्रभावित होने का खतरा होता है। सुरक्षित रहने के लिहाज से उनके ऑन रहने पर एक सुरक्षित दूरी बनाए रखना चाहिए। इसी प्रकार सेलफोन आपके बच्चे को किसी भी तरह से नुकसान नहीं पहुंचाता है।

मेरा बच्चा बहुत ज्यादा हरकत करता नहीं महसूस होता है, क्या उसका विकास धीमा है?

वास्तव में नहीं। आपके बच्चे की हरकतें अपनी गति से शुरू होती और जारी रहती हैं। यदि आप अपने बच्चे की हरकतों के बारे में बहुत चिंतित हैं, तो कुछ समय के अंतराल पर एक बार गिनती करने की कोशिश करें। जब तक आप बारह घंटे की अवधि में 10 बार हरकतों को महसूस करती हैं, तब तक आपके लिए चिंता का कोई कारण नहीं है।जैसे जैसे आपके प्रसव की तारीख करीब आती जायेगी यह जल्दी जल्दी होने लगेगा।अगर आप वास्तव में गिनती नहीं करती हैं, तो आप से कुछ हरकतें गिनती होने से छूट सकती हैं जिसके कारण अनुचित भय पैदा हो सकता है।

सच है। पहले तीन महीनों के दौरान हेयर कलर जैसे रसायनों से बचना सबसे अच्छा होता है क्योंकि ये खोपड़ी से अवशोषित हो जाते हैं और रक्त प्रवाह तक पहुंच जाते हैं।

गर्भावस्था के उत्तरार्ध के दौरान, हालांकि, यह जोखिम भरा नहीं हो सकता है। फिर भी, प्राकृतिक और हर्बल सामग्रियों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

नीचे स्थित पेट वाली गर्भवती महिलाओं को लड़का होता है, और गर्भावस्था में मुँहासे का मतलब है एक लड़की।

असत्य। एक महिला अपने बच्चे को कैसे धारण करती है उसके शरीर के प्रकार और क्या वह पहले भी गर्भवती हुई थी पर निर्भर करता है। लेकिन किसी भी मामले में यह लिंग को बिल्कुल भी प्रतिबिंबित नहीं करता है। आम तौर पर लम्बी, पतली महिलाएं उपरी हिस्से में जबकि छोटे कद और भरे शरीर वाली महिलाएं निचले हिस्से में धारण करती हुई दिखती हैं।बच्चे के लिंग के साथ इसका कोई संबंध नहीं है। इसके अलावा, दूसरी बार गर्भावस्था में, क्योंकि पेट की मांसपेशियां ढीली हो सकती हैं गर्भावस्था नीचे दिखाई दे सकती है।

इसी प्रकार गर्भावस्था में मुँहासे का भी लिंग के साथ कुछ भी लेना देना नहीं है; यह सिर्फ एक प्राकृतिक हार्मोनल परिवर्तन का परिणाम है।

भ्रूण के हृदय की धीमी दर का अर्थ एक लड़का है और एक भ्रूण के दिल की तेज दर का अर्थ एक लड़की है।

कोई ऐसा अध्ययन नहीं हुआ है जिसमें निर्णायक रूप से साबित हुआ है कि हृदय की दर  बच्चे के लिंग का एक भविष्यवक्ता है।आपके शिशु की हृदय दर एक जन्मपूर्व विज़िट के मुकाबले दूसरी जन्मपूर्व विज़िट में संभवत: भिन्न हो सकती है जो भ्रूण की उम्र और विज़िट के समय गतिविधि के स्तर पर निर्भर करती है।

गर्भवती महिलाओं को बिल्ली के मल त्यग करने वाले डिब्बे को नहीं बदलना चाहिए।

यह सच है। बिल्ली के मल में टॉक्सोप्लाज्मोसिस नामक एक वायरस संक्रमण होता है। गर्भावस्था के लिए यह वायरस बहुत हानिकारक हो सकता है। वास्तव में बिल्ली के मल त्याग से संपर्क केवल बिल्ली के मल त्यागने वाले बॉक्स को बदलने तक ही सीमित नहीं होता है, बिल्ली के पैरों सहित, जहाँ कहीं भी बिल्ली जाती है, वायरस कहीं भी जा सकते हैं। इस वजह से, बिल्ली के साथ सभी संपर्क सीमित होना चाहिए और घर को अतिरिक्त रूप से स्वच्छ रखा जाना चाहिए।

जब आप इन मिथकों के पीछे के असली कारणों और विज्ञान को जानते हैं तो इस सब को अच्छे हास्य में लिया जा सकता है। पड़ोस की बुजुर्ग आंटी क्या कह रही हैं उसे सुनिए, लेकिन जरूरी नहीं है कि आप उसका पालन करें!

English | Tamil | Hindi | Telugu | Bengali | Marathi

Read more

Join My First 1000 Days Club

It all starts here. Expert nutrition advice for you and your baby along the first 1000 days.

  • Learn about nutrition at your own paceLearn about nutrition at your own pace
  • toolTry our tailored practical tools
  • Enjoy member only benefits and offersEnjoy member only benefits

Let's start this!

Related Content
Article Reviews

0 reviews

Still haven't found
what you are looking for?

Try our new smart question engine. We'll always have something for you.