Sorry, you need to enable JavaScript to visit this website.
Search
Not a member? Register here
Share this Article
X

बच्चे को स्नान कराना

(0 reviews)

आपका बच्चा एक अच्छे गर्म स्नान को पसंद करेगा और यदि नहीं करता, तो धैर्य रखें - यह लंबे समय तक नहीं चलेगा और वे बाहर नहीं निकल पाएंगे और बाहर निकलना चाहेंगे भी नहीं! पानी गर्म और सुखदायक होता है और स्नान आपके और आपके बच्चे के बीच घनिष्ठ संपर्क का एक अच्छा अवसर प्रदान करता है। यहां स्नान के अनुभव को सुखद और प्रभावशाली बनाने के लिए दस युक्तियां दी गई हैं:

Monday, November 20th, 2017

स्नान के समय के लिए दस युक्तियाँ

1.कितनी बार? आवृत्ति आपके निवास के माहौल, आपके बच्चे के स्वास्थ्य, उम्र और वर्ष के समय पर निर्भर करती है। शुरुआती हफ्तों के दौरान आपके बच्चे को रोजाना स्नान की ज़रूरत नहीं होगी - सर से पाँव तक स्पंज स्नान एक अच्छा विकल्प है। जब आपका बच्चा एक नियमित दिनचर्या का पालन करने लगता है और ठोस पदार्थों को खाना शुरू कर देता है, एक दैनिक स्नान अधिक महत्वपूर्ण होगा।

2.तैयार रहें: स्नान के समय के लिए जरूरी बाथ वॉश, तौलिये, वॉश क्लाथ, नए नैपकिन और कपड़े और सफाई के अन्य सामानों जैसी चीजों को इकट्ठा करें। स्नान कराना शुरू करने से पहले उन्हें हाथ की पहुँच सेनजदीक रखें।

3.पानी का तापमान: आपका बच्चा शरीर के तापमान को उस प्रकार नियंत्रित नहीं कर सकता है जैसा कि आप कर सकते हैं। स्नान कराने के कमरे का गर्म और हवा के झोंकों से मुक्त होना महत्वपूर्ण है। पानी के तापमान को शरीर के तापमान के समान बनायें - अपने बच्चे को पानी में डालने से पहले, अपनी कोहनी को डुबा कर इसकी जांच कर लें। आपकी कोहनी का रंग नहीं उतरना चाहिए और उसे न तो गर्म और न ही ठंडा महसूस करना चाहिए।

4.पहले चेहरा, आंखें और कान: तौलिए में लिपटाने और कपड़े बदलने की चटाई पर लिटाते हुए, अपने बच्चे की आँखें, कान और चेहरे को साफ करें।

5. पकड़ रखें: गीला होने पर आपका बच्चा फिसलन भरा हो जाएगा। अपने बच्चे को स्नान कराने के लिए ले जाते और उससे बाहर लाते समय दोनों हाथों का उपयोग करें। अपने बच्चे को पानी में फिसलने से रोकने के लिए, एक नरम स्नान चटाई जैसा बनाने के लिए नीचे एक तौलिया बिछा कर रखें। अपने बच्चे को नहाने के पानी में छोड़ कर कहीं न जाएं।

6.नरमसाबुन चुनें: आपके बच्चे की त्वचा बहुत संवेदनशील होती है - आपके बच्चे की त्वचा पर इस्तेमाल किए जाने वाले उत्पादों को प्राकृतिक और सौम्य होना चाहिए। आप त्वचा में सूखापन उत्पन्न होना रोकने में मदद करने के लिए पानी में स्नान तेल (खुशबू से मुक्त) मिला सकते हैं। शिशुओं को साबुन और शैंपू की जरूरत नहीं होती है, आप सिर्फ पानी का उपयोग कर सकती हैं। एक बार जब आपका बच्चा चलने लगे, तो आप प्रति सप्ताह 1-2 बार गैर-सुगंधित, प्राकृतिक बाथ वाश, तेलों, मॉइस्चराइजर्स और शैंपू का इस्तेमाल कर सकती हैं।

7.बालों की देखभाल: जब तक आपका बच्चा कई महीने की उम्र का नहीं हो जाता या वास्तव में उसके बाल न उगे हो, शैंपू करना आवश्यक नहीं होगा। अपने बच्चे की आँखों को बूंदों से बचाने में मदद करने के लिए उसके सिर को पीछे की तरफ झुकाएं और हल्के, प्राकृतिक बेबी शैम्पू का उपयोग करें।

8.नवजात शिशु का पालना (क्रेडल कैप) की देखभाल: पहले कुछ महीनों के दौरान आप अपने बच्चे के सिर पर छोटे गुच्छे (फ्लेक्स) या नम परतदार टुकड़े देख सकती हैं - यही नवजात शिशु का पालना (क्रेडल कैप) है। तौलिए से सुखाने के बाद ब्रश और कंघी करने के द्वारा गुच्छों (फ्लेक्स) को नियमित रूप से निकालती रहें।

9.पोंछ कर सुखाना: स्नान पूरा हो जाने के बाद, अपने बच्चे को साफ, नरम तौलिए में लपेट दें और उन्हें रगड़े बिना नरमी से पोंछ कर सुखा दें। अपने स्वच्छ, तनाव मुक्त बच्चे की अद्भुत ताज़गी भरी सुगंध और सुंदरता का आनंद लें।

10.स्नान के समय को विशिष्ट बनाएं: अच्छी स्वच्छता के लिए स्नान करना आवश्यक है लेकिन यह आपके और आपके बच्चे के बीच एक अंतरंग बंधन बनाने का भी एक खास समय है। मुस्कराएं, तनाव से मुक्त हों और उनके साथ प्राप्त होने वाले अनुभव का आनंद लें।

नाभि नाल अवशेष की देखभाल (अम्बिलिकल स्टंप केयर)

जन्म के बाद पहले 24 से 48 घंटों तक आपके बच्चे के नाभि नाल का टुकड़ा बंधा हुआ रहता है।

नाल के टुकड़े के उतक के रूप (रंग की गहराइ और सूखने की अवस्था) और गंध में उसके अलग होने तक बदलाव होता रहता है।

नाभि नाल के गिरने से पहले इसमें एक घिनौनी गंध पैदा हो सकती है और यह एक या दो सप्ताह के बीच में कभी भी हो सकता है। नाभि की देखभाल करने के लिए निम्नलिखित उपलब्ध हैं:

  • कॉटनटिप एप्लिकेटर
  • कॉटनबाल या गॉज़
  • समुद्री नमक युक्त साफ पानी या एक सामान्य नमकीन घोल

नाभि की देखभाल से पहले और बाद में हाथों को अच्छी तरह से धो लेना चाहिए।

नाभि क्षेत्र को जब भी मूत्र या मल द्वारा प्रदूषित हो साफ करना और सुखा देना चाहिए। उपचार पूरा होने तक नाभि क्षेत्र को निरीक्षण में और साफ़ रखें। यदि आस-पास की त्वचा में कोई भी सूजन होती है तो सामान्य नमकीन घोल से साफ़ करें और एक प्राकृतिक बाधा क्रीम लगाएं।

अगर गर्भ नाल के गिर जाने के बाद नाभि क्षेत्र से कोई स्वच्छ स्राव या रिसाव हो रहा है, तो सामान्य नमकीन घोल या उबाल कर ठंडा किये हुए पानी से साफ करें और सूखा रखें।

अगर सूख चुकी गर्भ नाल के गिर जाने के बाद नाभि क्षेत्र से रिसाव या रक्तस्राव जारी रहता है, तो उसे हवा लगने दें और सूखा रखें तथा पेशेवर की सलाह प्राप्त करें।

बच्चे की आँखों की सफाई

तैयार किए गए स्नान के पानी से भिगोए गए एक जोड़ी कॉटन बाल या सॉफ्ट वाइप का उपयोग करके अपने बच्चे की आंखों को साफ करें।

आँख के क्षेत्र को दृढ़ता से, लेकिन कोमलता से नाक के क्षेत्र से शुरू कर बाहर की तरफ पोंछिए। एक दूसरा भिगोया गया कॉटन बाल का प्रयोग करें और दूसरी आँख भी साफ़ करें।

चिपचिपी आँखों, पानी गिरने वाली आँखों और जो आँखे अक्सर आपस में चिपक जाती हैं, उन्हें अधिक बार सफाई की आवश्यकता होती है और बच्चों में यह कोई असामान्य बात नहीं होती है। यह आमतौर पर अवरुद्ध आंसू की नलिकाओं के कारण होता है। नियमित रूप से सफाई के बावजूद भी आंखें कई हफ्तों तक और कभी कभी कई महीनों तक चिपचिपी बनी रह सकती हैं। अगर स्राव में कोई बदलाव होता है या आंख लाल हो जाए तो चिकित्सक को दिखाएं।

बच्चे के कानों की सफाई

आपके बच्चे के बाहरी कान की कर्ण नलिका में कान की मोम बनती है और जबड़ों की गति के द्वारा बाहरी कान के किनारों की ओर आ जाती है। इसका उद्देश्य कान की प्राकृतिक सफाई और स्नेहन में सहायता करना है तथा धूल और गंदगी कानों के भीतर आ जाती है उससे कानों की सुरक्षा करता है। जब कान की भीतरी कर्ण नलिका में बहुत अधिक मोम बन जाता है, तब सुनने की क्रिया में समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती हैं।

अपने बच्चे के कानों को केवल भिगाए गए रुईऊन की गेंद (कॉटन वूल बाल) या नरम पोंछे से बाहरी कानों के चारो ओर और कान के पीछे साफ़ करें।रुईकी कली (कॉटन बड) या अन्य संकीर्ण औजार कभी भी कर्ण नलिका के अंदर न डालें - आप कान के पर्दे में छेद कर सकते हैं।

उँगलियों के नाखून की देखभाल

आप देखेंगे कि आपके बच्चे की उँगलियों में बहुत नरम, लेकिन अक्सर बहुत लंबे नाखून हैं जो तेजी से बढ़ते हैं।

उन्हें नाखूनों को चबाने या खरोंच लगाने नहीं देना महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इससे नाखूनों के छल्ली (क्यूटिकल) को नुकसान पहुंच सकता है और जीवाणुओं के संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है क्योंकि यह एक खुला घाव होगा। इसकी बजाय, शिशु कतरनी (बेबी क्लिपर्स) या बच्चे के कुंद सिरे वाली कैंची का उपयोग करें।

यह अक्सर दो व्यक्तियों द्वारा मिलकर किया जाने वाला काम होता है। इसे करने का एक अच्छा समय तब होता है जब आपका बच्चा किसी अन्य व्यक्ति के हाथों में भोजन कर रहा या आराम कर रहा होता है।

नाखूनों के सिरे के आरपार सीधे काटें, नाखूनों के आधार की तरफ नीचे न जाएं।

कुछ प्ले सूटों में बनाए गए कफों में मिट्टियां (मिटेंस), मोज़े या तहों से हाथों को ढंकना खरोंच से हुए घावों को रोकने में मदद करेगा।

पैर की अंगुली के नाखून की देखभाल

क्या आपने ध्यान दिया है कि आपके बच्चे के पैर के नाखून थोड़े घुमावदार कोण में बढ़ते हैं और अक्सर भीतर की तरफ बढ़े पैर की उंगली के नाखून की तरह दिखते हैं? वे नरम होते हैं और नुकसान नहीं कर सकेंगे, लेकिन उन में लगातार पैरों के मोज़े, बूटी या सूट पहनने से वे उत्तेजित और सूज सकते हैं।

सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे के पैरों में थोड़ी देर तक हवा लगती है। लाल सूजन वाले क्षेत्र में चाय के पेड़ के तेल जैसे उपयुक्त जीवाणुरोधी लोशन लगाएं।

आपके बच्चे के पैर बहुत तेजी से बढ़ते हैं। जांच करें कि उनके पैर बहुत छोटे सूट और मोजे में कसे हुए नहीं हैं।

नाक की सफाई और छींक

आपके बच्चे की नाक के मार्गों को साफ़ रखना बहुत महत्वपूर्ण होता है। आपका बच्चा हवा के इन मार्गों को साफ रखने के लिए इतनी बार नियमित रूप से अपनी नाक या नाक के स्राव को प्रभावी ढंग से छींकते नहीं रह सकता हैं। नाक के स्राव को नम रखना उसे बाहर निकालने में मदद करता है। आप इसे नियमित भोजन और थोड़े पानी या सामान्य नमकीन घोल से नाक में पिचकारी मार कर प्राप्त कर सकते हैं। शुष्क जलवायु या गर्म या वातानुकूलित घरों में सोने वाले क्षेत्र में वायु को नम रखनेवाला उपकरण (ह्यूमिडिफायर) उपयोगी होता है। जब नाक का स्राव नम होता हैं, तो एक फार्मेसी से खरीदा गया रबड़ के एक छोटे बल्ब का उपयोग कर या टिशू पेपर के सिरों को मोड़ कर नाक के आधार पर नाक को कोमलता से दबाएं। कभी भी रुईकी कलियों (कॉटन बड)(या उसके लिए कुछ भी अन्य चीज को) नाक में न डालें।

English | Tamil | Hindi | Telugu | Bengali | Marathi

Read more

Join My First 1000 Days Club

It all starts here. Expert nutrition advice for you and your baby along the first 1000 days.

  • Learn about nutrition at your own paceLearn about nutrition at your own pace
  • toolTry our tailored practical tools
  • Enjoy member only benefits and offersEnjoy member only benefits

Let's start this!

Related Content
Article Reviews

0 reviews

Still haven't found
what you are looking for?

Try our new smart question engine. We'll always have something for you.